हिमाचल प्रदेश में प्राकृतिक आपदाओं से निपटने के लिए तीन स्पेशल फोर्स कंपनियां स्थापित होंगी। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल की तर्ज पर राज्य में तीनों कंपनियां काम करेगी। हि. प्र. देश के सर्वाधिक खतरनाक आपदा संभावित राज्यों में है। राज्य में भू-गर्भीय खतरों, भूकंप, भू-स्खलन, बाढ़, फ्लैश बाढ़ और हिमनद विस्फोट जैसे जलविद्युत खतरों, ओलावृष्टि, सूखा तथा बादल फटने जैसी घटनाएं आम हैं।Ref.14D

मंडी शहर के दो प्रमुख शोरूम व एक दुकान से लाखों रुपए की चोरी करने वाले बिहार की घोड़ा गैंग के एक और सदस्य को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। Ref.14D

अपने देश से निर्वासित होकर हिमाचल के धर्मशाला से चल रही तिब्बत सरकार देवभूमि हिमाचल के लोगों का आभार व्यक्त करेगी। निर्वासन के 60 वर्ष बीतने के उपलक्ष्य पर इससे पहले सेंट्रल तिब्बती एडमिनिस्टे्रशन (CTA) ने थैंक्यू इंडिया कार्यक्रम का आयोजन कर भारत का धन्यवाद किया था। अब सीटीए (CTA) हिमाचल की जनता का आभार जताने के लिए राजधानी शिमला के रिज पर थैंक्यू हिमाचल कार्यक्रम का आयोजन करेगी।

भाखड़ा  बांध  प्रबंधन बोर्ड (BBMB)से हिमाचल प्रदेश की कितने करोड रुपए की पुरानी हिस्सेदारी लंबित पड़ी है – 4200 करोड़

हिमाचल प्रदेश में कितनी ग्राम पंचायत है – 3226    

एनजीटी के चेयरमैन – जस्टिस आदर्श कुमार गोयल

Leave a Reply

Your email address will not be published.